गुण व उपयोग: ब्राह्मी का शर्बत सिर दर्द, मानसिक दुर्बलता, दिमागी कमजोरी, उन्माद, अपस्मार, हिस्टीरीया, मुर्च्छा, याददाश्त की कमी, स्नायु-दुर्बलता आदि विकारों में उत्तम लाभ करता है। स्मरण-शक्ति को बढ़ाने एवं दिमाग को पुष्ट करने में सुप्रसिद्ध है।

मात्रा व अनुपान: 10 से 20 ग्राम, आवश्यकतानुसार दिन में 2 - 3 बार पानी मिलाकर।

Write a review

Your Name:

Your Review:

Note: HTML is not translated!

Rating: Bad Good

Enter the code in the box below:

Custom Tab Here